दलित अधिकार मंच मेयर, निगमायुक्त, मंत्रियों व विधायकों को ज्ञापन देगा फरीदाबाद का दलित समाज

फरीदाबाद : (zeeharyana.com/Sunita Sharma) दलित महापंचायत का ऐलान बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर चौक का सौन्दर्यीकरण, बीके चौक पर सृष्टिकर्ता भगवान बाल्मीकि की मूर्ति स्थापना करने, बौद्ध विहार के नाम पर चौक पर बोर्ड लगाने, अम्बेडकर लाईब्रेरी बनाने तथा ओल्ड फरीदाबाद स्थित बाल्मीकि पार्क का सौन्दर्यीकरण, निगम प्रशासन ने 15 दिनों के अंदर नहीं किया तो फरीदाबाद का दलित समाज सड़कों पर उतरकर भाजपा सरकार का विरोध करेगा।

इससे पहले दो दिसंबर को निगम महापौर एवं सदन के सभी सदस्यों तथा निगम आयुक्त को ज्ञापन दिया जाएगा तथा सांसद, विधायकों व मंत्रियों को भी ज्ञापन सौंपे जाएगें। पंचायत में निर्णय लिया गया कि 5 दिसम्बर तक प्रशासन बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर चौक का कार्य शुरू करके ताकि छह दिसम्बर को बाबा साहब के 64वें परिनिर्वाण दिवस पर बाबा साहब की मूर्ति पर माल्र्यापण किया जा सके। पंचायत ने चेतावनी दी है कि आदि प्रशासन ने लापरवाही बरती तो निगम कार्यालय का सभी दलित संस्थाएं, सभाएं, यूनियनें, सामाजिक व धार्मिक संगठन मिलकर घेराव करेगें। महापंचायत के बाद सैकड़ों दलित समाज के लोगों ने नगर निगम सभागार से बीके चौक तक शांतिपूर्ण तरीके से मार्च भी निकाला।

आज की इस महापंचायत की अध्यक्षता नरेश कुमार शास्त्री, ओ.पी. धामा, चौ. सितारे पहलवान, लीलूराम भगवाना, मुकेश बाल्मीकि,
मायावती दबंग, मनोज चौधरी, स. उपकार सिंह, बीर सिंह नम्बरदार ने किया। जबकि मंच का संचालन आदि धर्म समाज के प्रचारक
अनिल चण्डाल ने किया।

दलित नेता नरेश शास्त्री ने कहा कि प्याली और बाटा चौक के मध्य स्थित बाबा साहब डा. भीमराव अम्बेडकर चौक की दुर्दशा से स्थानीय विधायक, मेयर व निगम के अधिकारी भली-भांति परिचित है, लेकिन जानबूझ कर अनदेखा किया जा रहा है। वहीं बिजली विभाग
द्वारा चौराहे के अंदर बिजली का ट्रांसमर व मोबाइल टावर व उनके जनरेटर लगाकर दलित के सम्मान पर कुठाराघात किया है। पंचायत में नगर निगम प्रशासन, बिजली वितरण निगम एवं मोबाइल कम्पनी संचालकों को चेतावनी दी गई है कि 15 दिन के अंदर ट्रांसफार्मर, टावर, जनरेटर को चौराहे से हटाया जाए और अम्बेडकर चौक का भव्य पुर्ननिर्माण कार्य शुरू किया जाए।

बीके चौक पर रामायण के रचियता भगवान बाल्मीकि जी की प्रतिमा स्थापित की जाए। शास्त्री ने पुन: चेतावनी देते हुए कहा कि अगर 15
दिन के अंदर उक्त मांगों का निर्वाण नहीं किया तो फरीदाबाद का दलित समाज सड़कों पर उतरकर विरोध करेगा। दलित महापंचायत में विभिन्न दलित संस्थाओं, सभाओं, धार्मिक संस्थाओं एवं बुद्धिजीवियों की एक 21 सदस्यीय कमेटी गठित की गई। जिनमें क्रमश: नरेश कुमार शास्त्री, ओ.पी. धामा, बलबीर सिंह बालगुहेर, गुरचरण खाण्डिया, मनोज चौधरी, अनिल चिण्डालिया, पुनीत गौतम, उपकार सिंह, लीलूराम भगवाना, मुकेश बाल्मीकि, चेतनदास नम्बरदार, ललित आजाद, देवीराम धौज, मायावती दबंग, बीर सिंह नम्बरदार, किशोरी प्रधान, सुनील चिण्डालिया, रमेश गौतम, दलीप चिण्डालिया, लक्ष्मण सिंह जाटव को कमेटी का सदस्य बनाया गया है, जो इस आन्दोलन का नेतृत्व करेगें।

Tags

Related posts

*

*

Top