रिंकू कालिया व वंदना मिश्रा की सुरीली आवाज ने किया धमाल मुख्य चौपाल पर बिखेरा सुरों का जादू, श्रोता झूमे

फरीदाबाद (सुनीता शर्मा ) 34वें अंतरराष्टï्रीय सूरजकुंड क्राफ्ट मेले में सोमवार की शाम संगीत व सुरों के दिवानों के नाम रही। मुख्य चौपाल पर सजी इस सुरीली शाम को सारेगामापा फेम सिंगर डा. रिंकू कालिया व लखनऊ की रहने वाली देश की जानी मानी लोक गायिका वंदना मिश्रा ने पर्यटकों के लिए यादगार बना दिया। डा. रिंकू की मधुर व मखमली आवाज का जादू पर्यटकों के सिर चढक़र बोला तो वहीं वंदना मिश्रा ने भोजपुरी, अवधी, सूफी व फिल्मी गीतों से पर्यटकों को सुरों के धागे में बांध दिया। मुख्य चौपाल पर गीतों व गजलों की सुनहरी शाम का आगाज कारगिल वार हीरो कर्नल बलवान सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर किया। कर्नल बलवान को अपने बीच पाकर पर्यटक भी खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे थे। कर्नल बलवान ने कारगिल वार के दौरान टाइगर हिल पर कब्जा कर दुश्मनों के छक्के छुड़ाए थे। हिंदी व पंजाबी सा रे गा मा पा विनर व ऑल इंडिया रेडियो पर गजल पैनल सदस्य डा. रिंकू कालिया ने जब दमा दम मस्त कलंदर गाया तो गीतों से सजी चौपाल को चार चांद लग गए और पर्यटक मंत्रमुग्ध हो गए। इसके बाद रिंकू कालिया ने लग जा गले के फिर हंसी रात हो ना हो, अजीब दास्तां है ये, बड़ी लंबी जुदाई तथा हिमाचल का लोक गीत गाकर दर्शकों का दिल जीता।
वंदना मिश्रा ने अपनी जादुई आवाज से विभिन्न भाषाओं के लोक गीतों से मुख्य चौपाल पर धमाल किया। पर्यटकों ने हर गीत पर जोरदार तालियों से रिंकू कालिया तथा वंदना मिश्रा का हौसला बढ़ाकर सुरमयी शाम का लुत्फ उठाया। वंदना मिश्रा ने कहे तोसे सजना, हे गंगा मैया तो है, तुझे प्यार करते-करते, कोठे ऊपर कोठरी तथा दरवज्जा खुला छोड़ आई आदि गीतों से सजी महफिल को और हंसीन बना दिया।

Tags

Related posts

*

*

Top