कृषि विकास योजना के तहत लवणीय भूमि में झींगा मछली पालन के लिए जिला में किसानों को आवेदन करने के लिए किया प्रेरित

फरीदाबाद : (zeeharyana.com/Sunita Sharma) लवणीय भूमि में किसान झींगा मछली पालन कर अपनी आय में बढ़ोतरी कर सकते हैं। सरकार द्वारा जारी हिदायतों के अनुसार झींगा मछली पालन को बढ़ावा देने के मद्देनजर सामान्य वर्ग के किसानों को 40 प्रतिशत और कमजोर वर्ग के लिए 60 प्रतिशत अनुदान राशि दी जाती है।

उपायुक्त यशपाल ने बताया कि जिला में किसानों की आय में बढ़ोतरी करने के उद्देश्य से जारी हिदायतों के अनुसार राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत वर्ष 2020-2021 में लवणीय भूमि में झींगा मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रेरित किया जा रहा है। जिन किसानों के पास अपनी भूमि या लम्बी अवधि पर प्राइवेट या लीज भूमि उपलब्ध हो तो तालाब निर्माण, मछलियों के लिए खाद, खुराक आदि के लिए किसानों को अनुदान भारत सरकार के मापदंडों के अनुसार दिया जाएगा। इसके लिए किसानों को 10 लाख रुपये की धनराशि पर सामान्य वर्ग को 40 प्रतिशत और महिला, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, सहकारी समितियों को 60 प्रतिशत अनुदान दिया जाता है। इसके लिए किसान जिला मत्स्य अधिकारी एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी, मत्स्य किसान विकास एजेंसी में आगामी 20 जुलाई तक आवेदन जमा कर सकते है।

किसान इस प्रकार करें आवेदन:- जिला मत्स्य अधिकारी रीटा ने बताया कि कृषि विकास योजना के तहत लवणीय भूमि में झींगा मछली पालन के लिए जिला में किसानों को आवेदन करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि किसानों के पास भूमि निजी हो और निजी ना हो तो न्यूनतम तीन वर्ष की या आठ वर्ष और इससे अधिक अवधि के लिए भूमि की लीज या डीड होनी चाहिए। तालाब का एरिया न्यूनतम एक एकड़ भूमि होना चाहिए। इसके अलावा किसानों की आयु, झींगा मछली पालन का अनुभव सहित अन्य हिदायतों को भी पूरा करना होगा। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा जारी हिदायतें मत्स्य पालन विभाग की वेबसाइट डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.एचएआरएफआईएसएच.जीओवी.आईइन पर भी उपलब्ध हैं।

Tags

Related posts

*

*

Top