मानव रचना अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय ने ऑकलैंड इंस्टीट्यूट ऑफ स्टडीज, न्यूज़ीलैंड के साथ अपनी ज्ञान भागीदारी को बढ़ाया

फरीदाबाद: (zeeharyana.com) मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी (एमआरआईयू) और ऑकलैंड इंस्टीट्यूट ऑफ स्टडीज (एआईएस), न्यूजीलैंड के बीच अंतर्राष्ट्रीय संबंध में मानव रचना के तीन सालइंटरनेशनल बिजनेस और सूचना प्रौद्योगिकी  के पाठ्यक्रमों का समर्थन करने के लिए अपने मौजूद संबंधों को बढ़ाने के लिए आज एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।

एमआरआईआई के अध्यक्ष डॉ प्रशांत भल्ला की उपस्थिति में डॉ रिचर्ड स्मिथ, उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी, एआईएस और डॉ एन सी वाधवा, उपाध्यक्ष, एमआरआईयू के बीच सहमति पत्र परहस्ताक्षर किए गए थे। डॉ संजय श्रीवास्तव, एम् दी,, एमआरईआई; और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस मौके पर मौजूद रहे ।

यह उल्लेखनीय है कि मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी (एमआरआईयू), न्यूजीलैंड क्वालिफिकेशन अथॉरिटी (एनजेड्यूए्यूए) द्वारा अनुमोदित एआईएस कार्यक्रमों के वितरण के लिए एक ऑफशोर साइट के रूप में मान्यता प्राप्त और ऑफ शोर साइट के रूप में स्वीकृत होने वाले पहले भारतीय शिक्षा प्रदाताओं में से एक था।

समझौते में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • पाठ्यक्रम के विकास और उन्नयन में एआईएस, एनजेड से सहायता, प्रक्रियाओं और गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली।
  • इस समर्थन के कार्यान्वयन में एमआरआईयू में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और सूचना प्रौद्योगिकी कार्यक्रमों के साथ मौजूदा एआईएस, एनजेड कार्यक्रमों में  भागीदारी  होगी।
  • एमआरआईयू में इन दो पाठ्यक्रमों को पड़ने वाले छात्र, न्यूजीलैंड में पढाये जाने वाली मूडल प्रणाली का प्रगोग कर पाएंगे
  • अधिक महत्वपूर्ण फैकल्टी बातचीत के साथ फैकल्टी एक्सचेंज
  • अनुसंधान सहयोग
  • अंग्रेजी दक्षता स्तर की परीक्षा के लिए प्रमाणन में सहायता

एमआरआईयू में इन दो पाठ्यक्रमों को पड़ने वाले छात्रों को अपने तीसरे वर्ष के दौरान न्यूजीलैंड के ऑकलैंड इंस्टीट्यूट ऑफ स्टडीज में कम्प्लीमेंटरी स्टडी अब्रॉड प्रोग्राम  से गुजरने का अनूठा अवसरमिलेगा।

डॉ एन सी वाधवा, वीसी, एमआरआईयू ने कहा, “मानव रचना के स्टूडेंट्स को हमेशा से इंटरनैशनल लेवल की शिक्षा प्रदान करने की कोशिश की जाती है  ताकि उन्हें भविष्य के वैश्विक नागरिक के रूप मेंउभरने में मदद मिल सके। एआईएस के साथ हमारे संबंधों का विस्तार, ने हमारे लिए प्रतिबद्धता और गुणवत्ता की शिक्षा के प्रति प्रयासों को और तेज़ करने के लिए एक नया बेंचमार्क तय किया है, औरवैश्विक शैक्षिक परिदृश्य पर हमारी स्थिति मजबूत करेगा। “

Tags

Related posts

*

*

Top