गर्भस्थ शिशु के शरीर में किसी भी प्रकार के संभावित विकार को तलाशने के उपरांत, उसका उपचार होगा संभव

फरीदाबाद : (zeeharyana.com/Sunita Sharma) गर्भस्थ शिशु के शरीर में किसी भी प्रकार के संभावित विकार को तलाशने के उपरांत उपचार सुनिश्चित करने के उद्देश्य से इंडियन सोसाइटी फॉर प्री नेटल डायग्नोसिस एंड थेरेपी (इस्पात ) की हरियाणा चैप्टर इकाई का उद्घाटन उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने स्थानीय सेक्टर-21ए स्थित एशियन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसिस में बतौर मुख्य अतिथि पधार कर किया।

श्री द्विवेदी ने इस अवसर पर उपस्थित इस्पात व एशियन के चिकित्सकों को इस संबंध में बधाई देते हुए कहा कि इस प्रकार की इकाई चिकित्सा जगत में एक बहुत ही बड़ी उपलब्धि है । गर्भावस्था के दौरान शिशु को इस तकनीक के माध्यम से मिलने वाली चिकित्सा सुविधा उसके बेहतर भविष्य निर्माण से जुड़ी है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार जिले के अन्य सभी जाने-माने निजी क्षेत्र के अस्पतालों को भी आगे आकर इस प्रकार की तकनीक अपनानी  चाहिए और इनका लाभ आमजन को भी अधिक से अधिक दिलाया जाना चाहिए ।एशियन अस्पताल के मुख्य कार्यकारी निदेशक एन के पांडे इस्पात के संस्थापक प्रधान डॉक्टर मनिंदर आहूजा ने उपायुक्त का स्वागत करते हुए इस इकाई को बेहतर ढंग से संचालित करने बारे आश्वस्त किया ।

इस अवसर पर डॉ अनीता कांत, माला अरोड़ा, निशा कपूर इस्पात की हरियाणा चैप्टर पैटर्न डॉ शीला सचदेवा, महासचिव डॉ सौरभ दानी , सचिव डॉ ममता फौगाट, डॉ  सोनल गुप्ता सहित कई अन्य वरिष्ठ चिकित्सक गण उपस्थित थे ।

Tags

Related posts

*

*

Top