टे्रड टैक्स के तुगलकी फरमान के खिलाफ व्यापारियों ने मेयर को सौंपा ज्ञापन

फरीदाबाद : (zeeharyana.com/Sunita Sharma)  नगर निगम द्वारा स्थानीय दुकानदारों के लिए लागू किए गए टे्रड लाईसेंस का विरोध दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। वीरवार को टे्रड लाईसेंस के विरोध में व्यापार मंडल के प्रधान जगदीश भाटिया के नेतृत्व में मेयर सुमनबाला एवं सीनियर डिप्टी मेयर देवेंद्र चौधरी को सर्व एनआईटी 86 फरीदाबाद व्यापारी एकता संघर्ष समिति  ने ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर श्री भाटिया के साथ मेयर व सीनियर डिप्टी मेयर को ज्ञापन देने वाले व्यापारी नेताओं में प्रमुख तौर पर जवाहर कालोनी मार्केट एसोसिएशन के प्रधान नीरज भाटिया, दर्शनलाल कुकरेजा, रवि कपूर, राजू गाबा, सुभाष गुलाटी, हरजिंदर सिंह, राममेहर,सोनू गुप्ता, संजय ठाकुर, प्रेम सिंह नैन, बाबू लाल, प्रेम गुप्ता एवं मुरारी लाल मौजूद थे।

ज्ञापन देने के अवसर पर व्यापार मंडल के प्रधान जगदीश भाटिया ने कहा कि ये सरासर तानाशाही है। वर्ष 1994 से अब तक ये टे्रड टैक्स लागू नहीं किया गया है, लेकिन अचानक नगर निगम को सूझा कि किस तरह से व्यापारियों का दोहन किया जाए और टे्रड टैक्स के नोटिस भेजने की शुरूआत कर दी गई। उन्होंने कहा कि पूरे हरियाणा में कहीं भी यह टैक्स लागू नहीं है, लेकिन फरीदाबाद में सरकार व मुख्यमंत्री की छवि को खराब करने के लिए नगर निगम प्रशासन के अधिकारियों ने टे्रड टैक्स लागू कर दिया है।

उन्होंने कहा कि यह टैक्स उद्योगों के लिए लागू किया गया था, ना कि छोटे छोटे दुकानदारों के लिए। पंरतु नगर निगम का तानाशाह अधिकारी जबरन उन पर यह टैक्स थोंपकर मुख्यमंत्री को खराब करना चाह रहा है।

जवाहर कालोनी मार्केट एसोसिएशन के प्रधान नीरज भाटिया ने कहा कि पिछले कुछ समय से दुकानदारों को नोटिस भेजकर धमकाया जा रहा है। उनसे कहा जा रहा है कि या तो पिछले पांच साल की लाईसेंस फीस एक मुश्त जमा करवाएं, नहीं तो उनकी दुकानें सील कर दी जाएंगी। इस तरह से नगर निगम के कर्मचारी व अधिकारी उन पर जबरन 22 साल बाद यह टैक्स थोंप रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह इस तुगलकी फरमान के खिलाफ हैं और कोई भी दुकानदार इस टैक्स की अदायगी नहीं करेगा।

नीरज भाटिया ने कहा कि जब प्रधानमंत्री ने सभी दुकानदार व व्यापारियों को जीएसटी के दायरे में ला दिया है, तब इस टैक्स को जबरन क्यों वसूला जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसके  पीछे कोई ना कोई बड़ा खेल हो सकता है। सरकार को बदनाम करने का यह गुप्त एजेंडा भी हो सकता है। इसलिए वह सभी इस टैक्स का कड़ा विरोध करेंगे।

ज्ञापन लेने के बाद व्यापारियों से बातचीत करते हुए मेयर सुमनबाला व सीनियर डिप्टी मेयर देवेंद्र चौधरी ने कहा कि किसी के साथ भी अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। वह इस संदर्भ में आयुक्त मोहम्मद शाईन से बात करेंगे। यदि ऐसे किसी टैक्स का प्रावधान नहीं है तो निगम प्रशासन को जबरन इस टैक्स की वसूली की इजाजत नहीं दी जाएगी।

Tags

Related posts

*

*

Top