फ़रीदाबाद की 13 बर्षीय नन्हीं लेखिका युविका पसरिचा की बुक  “माई फैन्टेसी वल्र्ड ” लांच

फ़रीदाबाद : (zeeharyana.com/Sunita Sharma) आप कल्पना कर सकते है कि आठ साल की उम्र में कोई लेखन कार्य वह भी किताब लेखन शुरू कर सकता है, जी हां हम बात कर रहे हैं  तेरह वर्षीय युविकापसरिचा की जिन्होंने अपनी लिखी पहली किताब “माई फैन्टेसी वल्र्ड” लांच कर लेखकीय जगत में प्रवेश किया है यह युवा लेखिका डी पी एस ग्रेटर फ़रीदाबाद में कक्षा 8 की छात्रा है और इसनेलेखन की ओर रूझान महज 8 वर्ष की उम्र में ही कर दिया था। इस किताब के लांच के साथ ही उसने लेखकों की दुनिया मंे अपना पहला कदम रख दिया है।

मूनलाइट बुक्स द्वारा प्रकाशित, “माई फैन्टेसी वल्र्ड”  इस 13 साल की लड़की द्वारा लिखी गई विभिन्न कल्पनाओं और हल्की फुल्की कहानियों के संग्रह है। जो पाठकों के समाज के बीच एककाफी तेजी से प्रभाव दिखाती है। कहानियों का संग्रह संदेश लोगों को दयालु और विचारशील होने के बारे में बताता है।

अपनी नई और पहली किताब के बारे में लेखिका युविका कहती है कि ‘‘मैने अपनी पहली बुक  ‘‘ माई फैन्टेसी वल्र्ड  ‘‘ एक वर्ष की अवधि में पूरी की और मुझे इस बात कि खुशी है कि मैं पाठकोंके साथ अपनी कल्पना साझा करने के लिए खुश हूं। इस पुस्तक में मेरे द्वारा लिखी गई विभिन्न लाइट हार्टेड (Light Hearted) स्टोरीज शामिल हैं। मैंने सभी कहानियों को इस तरह लिखाहै जो पाठकों को दूसरों के प्रति दयालु, विचारशील और अच्छा होने का संदेश देता है।

युविका कहती है कि इस पुस्तक को लिखने के बाद मेरा हौसला बढ़ा है और आगे चल कर मेरी महत्वाकांक्षा भी एक लेखिका बनने की है। इसके लिए मैने अपनी पढ़ाई के साथ ही समय निकालाऔर इस कहानी संग्रह को पूरा किया। हालांकि मेरे लिए यह करना इतना आसान नहीं था लेकिन आखिर में मैंने किताब पूरी कर ली है, इसे आप मेरा एक तरह का जुनून कह सकते हैं।

पुस्तक “माई फैन्टेसी वल्र्ड” का लक्ष्य युवा पाठकों को दयालु और स्नेही बनाने के लिए प्रोत्साहित करना है। यह पुस्तक पूरी तरह से हास्य, प्रेम, दोस्ती और विश्वास से भरी है और हर मनोदशाजो बचपन को यादगार रखने लायक बनाता है। पुस्तक अमेजॅन पर भी ऑनलाइन उपलब्ध है। युविका पसरिचा अब अपनी दूसरी किताब लिखने में जुटी है।  युविका की उड़ान को पंख देने मेउनके माता पिता नवीन तथा रचना का भी बहुत बड़ा सहयोग रहा है जिनहोने युविका को अपनी कल्पना को कागज मे उतारने के लिए प्रेरित किया और उसी का परिणाम है की आज युविकाकी कल्पनाशील कहानियों का संग्रह एक किताब के रूप मे उपलब्ध है।

Tags

Related posts

*

*

Top