पलवल के पांच गांवों के राजकीय स्कूलों का नाम अब होंगे शहीदों के नाम पर

पलवल : (zeeharyana.com/Sunita Sharma)  हरियाणा सरकार ने शहीदों व उनके परिजनों को उचित मान-सम्मान देने व देश की सुरक्षा के लिए उनके योगदान से युवा पीढ़ी को प्रेरित करने के उद्देश्य से जिला पलवल के पांच गांवों के राजकीय स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर रखने की मंजूरी दी है।

मुख्यमंत्री के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला ने बताया कि सरकार ने अनेक योजनाएं बनाकर शहीदों व उनके परिजनों को मान-सम्मान देने का कार्य किया है। उन्होंने स्वयं मुख्यमंत्री मनोहरलाल से अनुरोध किया था कि पलवल के पांच गांवों के राजकीय स्कूलों का नाम गांव के शहीदों के नाम पर रखा जाए। मुख्यमंत्री ने उनके इस अनुरोध को तुरंत स्वीकार किया तथा वीर शहीदों की देशहित में दी कुर्बानी के लिए इन स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर रखने की स्वीकृति प्रदान कर पलवल के लोगों की भावनाओं को पूरा मान-सम्मान देने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि पलवल की धरती वीर लोगों की धरती है। इस क्षेत्र से अनेक युवा आज देश की सुरक्षा के लिए सीमाओं पर तैनात है। सरकार की ओर से गांव खटेला सराय के स्कूल का नाम गांव के शहीद मंगल सिंह राजकीय मिडल स्कूल, गांव छज्जूनगर के स्कूल का नाम शहीद दीवान सिंह राजकीय हाई स्कूल, गांव चांदहट के स्कूल का नाम शहीद सुभाष राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल, गांव घसैड़ा के स्कूल का नाम शहीद धर्म सिंह राजकीय प्राइमरी स्कूल तथा गांव असावटा के स्कूल का नाम शहीद महिपाल सिंह राजकीय स्कूल असावटा किया गया है।

सरपंचों व ग्रामीणों ने किया फैसले का स्वागत: सरकार के शहीदों के नाम पर स्कूलों का नाम रखने के फैसले का गांवों के सरपंचों व ग्रामीणों ने भी स्वागत करते हुए कहा कि सरकार के इस फैसले से जहां शहीदों व उनके परिवार जनों को मान-सम्मान मिला है, वहीं इस फैसले से युवाओं को भी भविष्य में देश हित में कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी। गांव असावटा के सरपंच यागेश, ग्रामीण पवन पोसवाल, विरेंद्र सिंह, राकेश कुमार, नरेंद्र नंबरदार, जगत पोसवाल व गांव छज्जूनगर के सरपंच राजेंद्र, ग्रामीण दिनेश कौशिक, भाजपा के मंडल अध्यक्ष धर्मबीर चौहान, रामबीर चौहान तथा गांव चांदहट के सरपंच मंजीत, ब्लाक सदस्य दीपक, ग्रामीण महेश जाखड़, देवेंद्र सिंह, सूबेदार जगन सिंह, राहुल ने सरकार के इस फैसले को सराहनीय कदम बताते हुए मुख्यमंत्री के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला का उनके इस दिशा में किए गए प्रयासों के लिए आभार जताया। ग्रामीणों का कहना है कि शहीदों के नाम पर स्कूलों का नाम रखने से गांव के लोगों में खुशी की लहर है तथा सभी ने सरकार के इस फैसले को सराहनीय कदम बताया है।

Tags

Related posts

*

*

Top