स्वयंभू माफिया पार्षद की हुयी फजीयत, अवैध निर्माण की सील खुलवाने की सिफारिश मंहगी पड़ी

 

गए थे नमाज पढऩे और रोजे गले पढ़ गए। यह कहावत ग्रेटर फरीदाबाद के स्वयंभूमाफिया पार्षद पर उस समय चरितार्थ हो गई, जब वह अपने किसी रिश्तेदार के अवैध निर्माणों की सील खुलवाने की सिफारिश लेकर नगर निगम आयुक्त के पास पहुंचा। उक्त स्वयंभू माफिया पार्षद ने आयुक्त से सिफारिश की कि उसके रिश्तेदारों की दुकानों को निगम प्रशासन ने पिछले दिनों सील कर दिया था, कृपया वह सील खुलवाने के आदेश जारी कर दें। पार्षद की सिफारिश सुनते ही आयुक्त अनीता यादव भडक़ गई और उन्होंने सील खुलवाने की बजाए स्वयंभूमाफिया पार्षद की जबरदस्त तरीके से फजीयत की और दुकानों को तोडऩे के आदेश जारी कर दिए। उन्होंने स्वयंभूमाफिया पार्षद से यह भी कहा कि वह अपने क्षेत्र में अवैध निर्माण करवाकर नगर निगम के सभी कायदे कानूनों की अवेहलना करवा रहे हैं। इसलिए सील खुलना तो दूर अब उन्हें तोडऩा होगा। आयुक्त ने मौके पर मौजूद अधिकारियों को सख्त आदेश दिए कि इस पार्षद की दुकानों को तोड़ दिया जाए। माना जा रहा है कि शुक्रवार यानि कि 9 अगस्त को पार्षद की सील खुलवाने की अपील धरी रह जाए और वहां बुलडोजर चलता दिखाई दे। यहां बता दें कि यह पार्षद राज्य के एक मंत्री का नजदीकी है। उक्त पार्षद का कहना है कि उसके रिश्तेदारों ने ग्रेटर फरीदाबाद में कुछ दुकानें बनाई हैं। इन दुकानों पर शुरू से ही निगम प्रशासन की टेढी नजर रही है, लेकिन मंत्री की सिफारिश पर वह अब तक बचती रही हैं। यहां तक कि पिछले दिनों उन दुकानों को तोडऩे के लिए निगम का पूरा लाव लश्कर गया था। मगर मंत्री की सिफारिश पर दुकानों को तोडऩे की बजाए सील कर दिया गया था। लेकिन यह मामला एक बार फिर से उस समय पार्षद के लिए आफत बन गया है, जब वह उक्त अवैध दुकानों की सील खुलवाने के लिए आयुक्त के दरबार में पहुंच गया।

Tags

Related posts

*

*

Top