भूमाफिया पार्षद न घर का रहा न घाट का , राज्य के मंत्री के यहाँ डाला डेरा

 

भूमाफिया पार्षद को क्या पता था की जो अवैध निर्माण करवाने की ठेकेदारी वो ठोक कर लेता था और सेवा शुल्क मिल बाँट कर खाता था। आज उसी का अवैध निर्माण उसके गले की हड्डी बन गया है। हालांकि जो सुनने में आया है कि उसने इस अवैध निर्माण वाली मार्केट की अपनी साड़ी दुकाने बेच दी है और मोटा कमा कर साइड हो गया है। लेकिन जिसको बेचीं थी उसको उसने फुल गारंटी दी थी की मंत्री अपना ख़ास है कोई मेरे इस अवैध कमर्सियल निर्माण को हाथ भी नहीं लगा सकता है। लेकिन उसने सपने में भी नहीं सोचा था की उसके साथ ऐसी फजीयत होगी जो निगम आयुक्त ने की। और ऊपर से उसके खुद के ऑफिस के लाले पड़ जाएंगे।
अभी हाल ही में उसने मंत्री जी के बड़े से ऑफिस के बरामदे में शरण ले राखी है और अपनी दूकान वही से चला रहा है। जब तक मंत्री जी को इसकी असली दुकानदारी का पता चलेगा तब तक बहुत देर हो चुकी होगी। अब देखना ये है की ये भूमाफिया पार्षद कब तक बिना घर और घाट के काम चलाता है

Tags

Related posts

*

*

Top